नवरात्रमें करे इस मंत्र का जप! होगी सभी समस्याए दूर।

माता गायत्री की प्रसन्नता के लिए गायत्री मंत्र का जप सर्वश्रेष्ठ उपाय है। यदि कोई व्यक्ति हर रोज इस मंत्र का जप करता है तो उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं। अभी मां की कृपा पाने का श्रेष्ठ समय नवरात्र चल रहा है। इन दिनों में गायत्री मंत्र जप से बहुत ही जल्दी शुभ फल प्राप्त किए जा सकते हैं।

यहां जानिए गायत्री मंत्र के उपाय और खास बातें…

गायत्री मंत्र-

ऊँ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि। धियो यो न: प्रचोदयात्।।

गायत्री मंत्र का अर्थ: सृष्टि की रचना करने वाले, प्रकाशमान परमात्मा के तेज का हम ध्यान करते हैं, परमात्मा का यह तेज हमारी बुद्धि को सही मार्ग की ओर चलने के लिए प्रेरित करें।

इस मंंत्र का जप करने के लिए रुद्राक्ष की माला का उपयोग करना श्रेष्ठ होता है।

शास्त्रों के अनुसार गायत्री मंत्र सर्वश्रेष्ठ मंत्रों में से एक है। इस मंत्र के जप के लिए तीन समय बताए गए हैं। इन तीन समय को संध्याकाल कहा जाता है।

गायत्री मंत्र का जप का पहला समय है प्रात:काल- सूर्योदय से थोड़ी देर पहले मंत्र जप शुरू किया जाना चाहिए। जप सूर्योदय के बाद तक करना चाहिए।

मंत्र जप के लिए दूसरा समय है दोपहर- दोपहर में भी इस मंत्र का जप किया जाता है।

तीसरा समय है शाम को सूर्यास्त से कुछ देर पहले- सूर्यास्त से पहले मंत्र जप शुरू करके सूर्यास्त के कुछ देर बाद तक जप करना चाहिए।

इन तीन समय के अतिरिक्त यदि गायत्री मंत्र का जप करना हो तो मौन रहकर, मानसिक रूप से करना चाहिए। मंत्र जप अधिक तेज आवाज में नहीं करना चाहिए।

मंत्र के जप से मिलते हैं ये 10 लाभ
इस मंत्र के जप से हमें यह दस लाभ प्राप्त होते हैं। ये 10 लाभ इस प्रकार हैं- उत्साह एवं सकारात्मकता मिलती है, त्वचा में चमक आती है, तामसिकता दूर होती है, परमार्थ कार्यों में रुचि जागती है, पूर्वाभास होने लगता है, आशीर्वाद देने की शक्ति बढ़ती है, आंखों में आकर्षण आता है, स्वप्न सिद्धि प्राप्त होती है, क्रोध शांत होता है, ज्ञान की वृद्धि होती है।

विद्यार्थियों के लिए
विद्यार्थियों के लिए तो यह मंत्र विशेष रूप से लाभदायक है। रोजाना इस मंत्र का जप 108 बार करने से विद्यार्थी को विद्या प्राप्त करने में आसानी हो जाती है। विद्यार्थियों का पढ़ने में मन नहीं लगना, याद किया हुआ भूल जाना, शीघ्रता से याद न होना आदि समस्याओं से मुक्ति मिल जाती है।

दरिद्रता से मुक्ति के लिए
यदि किसी व्यक्ति को व्यापार या नौकरी में हानि हो रही है या कार्य में सफलता नहीं मिलती है, धन की कमी है, व्यय अधिक है तो उन्हें गायत्री मंत्र का जप काफी फायदा पहुंचाता है। शुक्रवार को पीले कपड़े पहनें और हाथी पर विराजमान गायत्री माता का ध्यान करते हुए गायत्री मंत्र का जप 108 बार करें। मंत्र के आगे और पीछे ‘श्रीं’ सम्पुट लगाकर जप करने से दरिद्रता दूर होती है। इसके साथ ही रविवार को व्रत किया जाए तो ज्यादा लाभ होता है।

सम्पुट- जो बीज मंत्र किसी मंत्र के आगे और पीछे लगाए जाते हैं, उन्हें सम्पुट कहा जाता है।

संतान संबंधी परेशानियां दूर करने के लिए
संतान सुख प्राप्त नहीं हो रहा हो अथवा संतान रोगी हो तो रोज सुबह ये उपाय करें। उपाय के अनुसार,, पति-पत्नी सफेद कपड़े पहनकर ‘यौं’ बीज मंत्र का सम्पुट लगाकर गायत्री मंत्र का जप 108 बार रोज करें। ऐसा करने से संतान संबंधी समस्या से शीघ्र मुक्ति मिल सकती है।

शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने के लिए
यदि कोई व्यक्ति शत्रुओं के कारण परेशानियां झेल रहा हो तो उसे रोज या मंगलवार, अमावस्या या रविवार को लाल कपड़े पहनकर माता दुर्गा का ध्यान करते हुए गायत्री मंत्र का जप 108 बार करना चाहिए। मंत्र के आगे और पीछे ‘क्लीं’ बीज मंत्र का तीन बार सम्पुट लगाएं। इससे शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है। मित्रों में सद्भाव, परिवार में एकता बनी रहती है तथा न्यायालय संबंधी कार्यों में भी विजय प्राप्त होती है।

विवाह में देरी हो रही हो तो
यदि किसी व्यक्ति के विवाह में देरी हो रही हो तो सोमवार को सुबह के समय पीले कपड़े पहनें। माता पार्वती का ध्यान करते हुए’ह्रीं’ बीज मंत्र का सम्पुट लगाकर 108 बार गायत्री मंत्र का जप करने से विवाह में आने वाली बाधाएं दूर होती हैं। यह साधना स्त्री-पुरुष दोनों कर सकते हैं।

यदि किसी रोग के कारण परेशानियां हो तो
यदि किसी रोग से परेशान हैं और रोग से मुक्ति जल्दी चाहते हैं तो किसी भी शुभ मुहूर्त में ये उपाय करें। एक कांसे के बर्तन में साफ पानी भरकर रख लें। लाल आसन पर बैठकर ‘ऐं ह्रीं क्लीं’ का सम्पुट लगाकर गायत्री मंत्र का जप 108 बार करें। जप के बाद पानी को पी लें। ऐसा करने से रोगों से मुक्ति मिल सकती है। यही जल किसी दूसरे रोगी को देने से उसके रोग भी दूर हो सकते हैं।
जीवन मंत्र

Advertisements

Author: Mukesh Beldar

Hello friends I am Mukesh muje logo ki madad karna achcha lagta hai. Or isi liye mene yah blog banaya hai. Is blog se agar ek bhi article apko kam aa jaye to mera blog banane ka udesya safal hoga.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s