जानिए ओड community और ओड़िसा राज्य से जुड़े इतिहास के बारेमे।

ओड जाती और ओड़िसा का इतिहास wikipedia के मुताबिक बोहत पुराना है। ओड community भारत की सबसे महत्वपुर्ण और पूरानी community में से एक है। आज हम उसी ओडिसा और उनसे जुड़े ओड़ कम्युनिटी के बारेमे बात करेगे।

प्राचीन काल से मध्यकाल तक ओडिशा राज्य को कलिंग, उत्कल, उत्करात, ओड्र, ओद्र, ओड्रदेश, ओड, ओड्रराष्ट्र, त्रिकलिंग, दक्षिण कोशल, कंगोद, तोषाली, छेदि तथा मत्स आदि नामों से जाना जाता था। परन्तु इनमें से कोई भी नाम सम्पूर्ण ओडिशा को इंगित नहीं करता था। अपितु यह नाम समय-समय पर ओडिशा राज्य के कुछ भाग को ही प्रस्तुत करते थे।
वर्तमान नाम ओडिशा से पूर्व इस राज्य को मध्यकाल से ‘उड़ीसा’ नाम से जाना जाता था, जिसे अधिकारिक रूप से 04 नवम्बर, 2011 को ‘ओडिशा’ नाम में परिवर्तित कर दिया गया। ओडिशा नाम की उत्पत्ति संस्कृत के शब्द ‘ओड्र’ से हुई है। इस राज्य की स्थापना भागीरथ वंश के राजा ओड ने की थी, जिन्होने अपने नाम के आधार पर नवीन ओड-वंश व ओड्र राज्य की स्थापना की। समय विचरण के साथ तीसरी सदी ई०पू० से ओड्र राज्य पर महामेघवाहन वंश, माठर वंश, नल वंश, विग्रह एवं मुदगल वंश, शैलोदभव वंश, भौमकर वंश, नंदोद्भव वंश, सोम वंश, गंग वंश व सूर्य वंश आदि सल्तनतों का आधिपत्य भी रहा।
प्राचीन काल में ओडिशा राज्य का वृहद भाग कलिंग नाम से जाना जाता था। सम्राट अशोक ने 261 ई०पू० कलिंग पर चढ़ाई कर विजय प्राप्त की। कर्मकाण्ड से क्षुब्द हो सम्राट अशोक ने युद्ध त्यागकर बौद्ध मत को अपनाया व उनका प्रचार व प्रसार किया।[1] बौद्ध धर्म के साथ ही सम्राट अशोक ने विभिन्न स्थानों पर शिलालेख गुदवाये तथा धौली व जगौदा गुफाओं (ओडिशा) में धार्मिक सिद्धान्तों से सम्बन्धित लेखों को गुदवाया।[2] सम्राट अशोक, कला के माध्यम से बौद्ध धर्म का प्रचार करना चाहते थे इसलिए सम्राट अशोक ने बौद्ध धर्म को और अधिक विकसित करने हेतु ललितगिरि, उदयगिरि, रत्नागिरि व लगुन्डी (ओडिशा) में बोधिसत्व व अवलोकेतेश्वर की मूर्तियाँ बहुतायत में बनवायीं। 232 ई०पू० सम्राट अशोक की मृत्यु के पश्चात् कुछ समय तक मौर्य साम्राज्य स्थापित रहा परन्तु 185 ई०पू० से कलिंग पर चेदि वंश का आधिपत्य हो गया था। चेदि वंश के तृतीय शासक राजा खारवेल 49 ई० में राजगद्दी पर बैठा तथा अपने शासन काल में जैन धर्म को विभिन्न माध्यमों से विस्तृत किया, जिसमें से एक ओडिशा की उदयगिरि व खण्डगिरि गुफाऐं भी हैं। इसमें जैन धर्म से सम्बन्धित मूर्तियाँ व शिलालेख प्राप्त हुए हैं। चेदि वंश के पश्चात् ओडिशा (कलिंग) पर सातवाहन राजाओं ने राज्य किया। 498 ई० में माठर वंश ने कलिंग पर अपना राज्य कर लिया था।
माठर वंश के बाद 500 ई० में नल वंश का शासन आरम्भ हो गया। नल वंश के दौरान भगवान विष्णु को अधिक पूजा जाता था इसलिए नल वंश के राजा व विष्णुपूजक स्कन्दवर्मन ने ओडिशा में पोडागोड़ा स्थान पर विष्णुविहार का निर्माण करवाया। नल वंश के बाद विग्रह एवं मुदगल वंश, शैलोद्भव वंश और भौमकर वंश ने कलिंग पर राज्य किया। भौमकर वंश के सम्राट शिवाकर देव द्वितीय की रानी मोहिनी देवी ने भुवनेश्वर में मोहिनी मन्दिर का निर्माण करवाया। वहीं शिवाकर देव द्वितीय के भाई शान्तिकर प्रथम के शासन काल में उदयगिरी-खण्डगिरी पहाड़ियों पर स्थित गणेश गुफा (उदयगिरी) को पुनः निर्मित कराया गया तथा साथ ही धौलिगिरी पहाड़ियों पर अर्द्यकवर्ती मठ (बौद्ध मठ) को निर्मित करवाया। यही नहीं, राजा शान्तिकर प्रथम की रानी हीरा महादेवी द्वारा 8वीं ई० हीरापुर नामक स्थान पर चौंसठ योगनियों का मन्दिर निर्मित करवाया गया।
6वीं-7वीं शती कलिंग राज्य में स्थापत्य कला के लिए उत्कृष्ट मानी गयी। चूँकि इस सदी के दौरान राजाओं ने समय-समय पर स्वर्णाजलेश्वर, रामेश्वर, लक्ष्मणेश्वर, भरतेश्वर व शत्रुघनेश्वर मन्दिरों (6वीं सदी) व परशुरामेश्वर (7वीं सदी) में निर्माण करवाया। मध्यकाल के प्रारम्भ होने से कलिंग पर सोमवंशी राजा महाशिव गुप्त ययाति द्वितीय सन् 931 ई० में गद्दी पर बैठा तथा कलिंग के इतिहास को गौरवमयी बनाने हेतु ओडिशा में भगवान जगन्नाथ के मुक्तेश्वर, सिद्धेश्वर, वरूणेश्वर, केदारेश्वर, वेताल, सिसरेश्वर, मारकण्डेश्वर, बराही व खिच्चाकेश्वरी आदि मन्दिरों सहित कुल 38 मन्दिरों का निर्माण करवाया।
15वीं शती के अन्त तक जो गंग वंश हल्का पड़ने लगा था उसने सन् 1038 ई० में सोमवंशीयों को हराकर पुनः कलिंग पर वर्चस्व स्थापित कर लिया तथा 11वीं शती में लिंगराज मन्दिर, राजारानी मन्दिर, ब्रह्मेश्वर, लोकनाथ व गुन्डिचा सहित कई छोटे व बड़े मन्दिरों का निर्माण करवाया। गंग वंश ने तीन शताब्दियों तक कलिंग पर अपना राज्य किया तथा राजकाल के दौरान 12वीं-13वीं शती में भास्करेश्वर, मेघेश्वर, यमेश्वर, कोटी तीर्थेश्वर, सारी देउल, अनन्त वासुदेव, चित्रकर्णी, निआली माधव, सोभनेश्वर, दक्क्षा-प्रजापति, सोमनाथ, जगन्नाथ, सूर्य (काष्ठ मन्दिर) बिराजा आदि मन्दिरों को निर्मित करवाया जो कि वास्तव में कलिंग के स्थापत्य इतिहास में अहम भूमिका का निर्वाह करते हैं। गंग वंश के शासन काल पश्चात् 1361 ई० में तुगलक सुल्तान फिरोजशाह तुगलक ने कलिंग पर राज्य किया। यह वह दौर था जब कलिंग में कला का वर्चस्व कम होते-होते लगभग समाप्त ही हो चुका था। चूँकि तुगलक शासक कला-विरोधी रहे इसलिए किसी भी प्रकार के मन्दिर या मठ का निर्माण नहीं हुअा।
18वीं शती के आधुनिक काल में ईस्ट इण्डिया कम्पनी का सम्पूर्ण भारत पर अधिकार हो गया था परन्तु 20वीं शती के मध्य में अंग्रेजों के निगमन से भारत देश स्वतन्त्र हुआ। जिसके फलस्वरूप सम्पूर्ण भारत कई राज्यों में विभक्त हो गया, जिसमें से भारत के पूर्व में स्थित ओडिशा (पूर्व कलिंग) भी एक राज्य बना।
प्राचीन इतिहास
ओडिशा राजा ओद् ने बसाया व अपने नाम पर ओड्वंश चलाया जौ भागीरथवंशज थे। ओड भागीरथ वंशज है इसी लिए भगीरथ पुरे भारत में जहाँ जहाँ घूमे वहा वहा ओड मिलेंगे पुरे भारत में 5 करोड़ से भी ज्यादा ओड की बस्ती है।
From wikipedia
Advertisements

Taj mahal

प्रेम की निशानी ताजमहल से जुड़े कुछ अद्भुत और रोचक तथ्य

दुनिया के नए सात अजूबों में अपना नाम दर्ज करवा चुका ताजमहल शाहजहां और उनकी बेगम मुमताज महल के प्रेम की निशानी के तौर पर विश्व पटल पर अपनी पहचान स्थापित कर चुका है. यह बात तो हम सभी कई बार पढ़ और सुन चुके हैं कि लगभग 20,000 मजदूरों के कठोर श्रम के कारण यह इमारत 22 वर्षों में बनकर तैयार हुई थी. 1653 में बनकर तैयार हुए ताजमहल पर 32 करोड़ रुपए की लागत लगी थी. अपनी चहेती बेगम मुमताज महल की याद में बनाया गया ताजमहल आज देश-विदेश के सैलानियों को अपनी खूबसूरती से आकर्षित करता है. इन सब के अलावा संगमरमर से बनी इस खूबसूरत इमारत से जुड़े और भी बहुत से तथ्य हैं:

बड़े कमाल के हैं यह विदेशी अंधविश्वास

आगरा का ताज हासिल करने से पहले शाहजहां का नाम शहजादा खुर्रम था.
अर्जुमंद बानो की बेपनाह खूबसूरती से प्रभावित होकर शाहजहां ने उन्हें अपनी तीसरी बेगम बनाया था. निकाह के बाद उनका नाम मुमताज महल रखा गया, जिसका अर्थ है महल का बेशकीमती नगीना.
चौदहवीं संतान को जन्म देते समय मुमताज महल ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया.
ताजमहल की सजावट में 28 प्रकार से भी ज्यादा उत्तम जड़ाऊ रत्नों का प्रयोग किया गया है.
समय देखने के लिए घड़ियां नहीं थीं इसीलिए दिन के समय सूरज और रात के समय चांद की रोशनी जब ताजमहल पर पड़ती थी उसी के अनुसार समय का अनुमान लगाया जाता था. रोशनी के कारण ताजमहल का रंग भी बदलता है. कुछ लोगों का तो यह भी मानना है कि ताजमहल का बदलता रंग महिलाओं के परिवर्तित होते मूड को दर्शाता है.
ताजमहल की बनावट में लगने वाले सामान को लाने ले जाने के लिए 1,000 हाथियों का प्रयोग किया गया था.
मुमताज महल की वास्तविक कब्र के एक तरफ अल्लाह के 99 नाम को जड़ा गया है.
1857 की क्रांति के दौरान अंग्रेज सैनिकों ने ताजमहल में जड़े अनमोल रत्नों को  निकाल लिया था.
ताजमहल को और अधिक खूबसूरत बनाने के लिए इसमें जगह-जगह पर कुरान की आयतों को भी गोदा गया है.